• 14 साल की लड़की को बंधक बना 1000 लोगों से बनवाया शारीरिक संबंध
  • प्रशांत भूषण को पीटने वाले को बीजेपी ने बनाया प्रवक्ता
  • राजस्थान: लैंडिंग से पहले बाड़मेर में क्रैश हुआ सुखोई, दोनों पायलट सुरक्षित
  • 'लालू परिवार' हुआ रघुवंश से नाराज, राबड़ी ने बयान को बोला फूहड़
  • गिलगित-बाल्टिस्तान क्षेत्र को पांचवां प्रांत घोषित करने की तैयारी में पाकिस्तान
  • सिद्धू को मिल सकता है कांग्रेस से झटका, अमरिंदर नहीं चाहते कोई डिप्टी CM
  • लोकसभा में भाजपा सांसदों ने किया पीएम मोदी का स्वागत, लगे 'जयश्री राम' के नारे
  • पंजाब और गोवा विधानसभा चुनावों में मिली हार के बाद आम आदमी पार्टी में फूट के आसार!

होम |

दुनिया

अमेरिका में 9/11 हमले के बाद जैसा माहौल

By Raj Express | Publish Date: 3/7/2017 4:32:03 PM
अमेरिका में 9/11 हमले के बाद जैसा माहौल

वाशिंगटन। अमेरिका में दो भारतीयों की हत्या और एक अन्य पर जानलेवा हमले के बाद भारतीय समुदाय का गुस्सा उभरने लगा है। अमेरिकी संसद में डेमोक्रेट पार्टी के भारतीय अमेरिकी सांसद प्रमिला जयपाल ने रविवार को कहा कि इन हमलों से स्थिति 9/11 के बाद पनपे जैसे हालात से हो गई है। उन्होंने कहा कि नस्ली सोच पर आधारित हिंसा ने दहशत का माहौल बना दिया है। दुर्भाग्य से ट्रंप प्रशासन की अप्रवासी समुदाय के प्रति तिरस्कार और हीन भावना का परिणाम पूरे देश में सामने आ रहा है, लेकिन सरकार खामोश है। ट्रंप प्रशासन में अलग स्थिति: सिख कोएलिशन जैसे समूह ने भी कहा कि ताजा घटनाएं 11 सितंबर के आतंकी हमले के बाद हुए नस्ली हमलों की याद दिलाती है। लेकिन उस समय की सरकार दहशत और डर के माहौल को दूर करने में सक्रिय थी, लेकिन अब एक बेहद अलग स्थिति है। मानवाधिकार और अल्पसंख्यक समूहों ने कहा कि हम भय के आगे नहीं झुकेंगे। डेमोRेटिक संगठन के भारतीय अमेरिकी समूह ने कहा है कि नस्ली फब्तियां और बेवजह के हमले परेशानी पैदा करने वाले हैं। नेताओं को ऐसे घृणा अपराध के खिलाफ बाहर आकर आवाज उठानी चाहिए। भारतीय आईटी पेशेवरों के संगठन इंडियन सिविल वॉच का कहना है कि हम संगठित होकर अप्रवासियों के अधिकारों की रक्षा करेंगे और भारतीय समाज के प्रति अमेरिकियों में जागरूकता फैलाएंगे।  कंसास हमले का जिR करते हुए संगठन ने कहा कि हमें ऐसे घृणा अपराधों के लिए लंबे समय तक अभियान चलाने की जरूरत है। सिख को गोली मारने की जांच करेगी एफबीआई  भारतीय मूल के सिख व्यक्ति को गोली मारने की घटना की जांच एफबीआई करेगी। हमलावर गोली मारने से पहले ‘अपने देश वापस जाओ’ चिल्ला रहा था। भारतीय मूल के अमेरिकी दीप राय (39) को शुक्रवार को उनके घर के बाहर नकाब पहने एक व्यक्ति ने गोली मार दी थी। एफबीआई ने इस संभावित नफरत से प्रेरित अपराध की जांच शुरू कर दी है। एफबीआई सीएटल के प्रवक्ता एयन डाईट्रीच ने कहा कि सीएटल एफबीआई साझां जांच के जरिये गोलीबारी मामले में केंट पुलिस विभाग की सहायता कर रही है। उन्होंने कहा कि एफबीआई संभावित घृणा अपराधों की जांच करने को प्रतिबद्ध है और हम सीएटल क्षेत्र में सभी समुदायों के हमारे सहयोगियों के साथ काम करना जारी रखेंगे।  पाकिस्तान, बांग्लादेश व अफगानिस्तान की यात्र नहीं करें अमेरिकी-अमेरिका ने अपने नागरिकों के लिए परामर्श जारी किया कि वे पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश की यात्र नहीं करें और कहा कि भारत में भी चरमपंथी तत्व ‘सक्रिय’ हैं। अमेरिकी विदेश विभाग ने अपने परामर्श में कहा कि अमेरिकी सरकार का आकलन है कि दक्षिण एशिया के आतंकी समूह अमेरिकी प्रतिष्ठानों, नागरिकों और हितों को निशाना बना सकते हैं। अमेरिकी नागरिकों को अफगानिस्तान जाने से बचना चाहिए, क्योंकि इस देश का कोई इलाका हिंसा से मुक्त नहीं है। उसने कहा कि पाकिस्तान में कई आतंकी संगठन, जातीय समूह तथा दूसरे चरमपंथी हैं जो अमेरिकी नागरिकों के लिए खतरा पैदा करते हैं। विदेश विभाग ने कहा कि भारत में भी चरपमंथी तत्व सक्रिय हैं, जैसा कि हालिया आपात संदेश में कहा गया था।  बांग्लादेश में आतंकवादियों ने कई स्थानों और संस्थाओं को निशाना बनाया है।

Contact us: contact@rajexpress.com
Copyright © 2016 RajExpress.com. All Rights Reserved.
Designed by : 4C Plus