• 14 साल की लड़की को बंधक बना 1000 लोगों से बनवाया शारीरिक संबंध
  • प्रशांत भूषण को पीटने वाले को बीजेपी ने बनाया प्रवक्ता
  • राजस्थान: लैंडिंग से पहले बाड़मेर में क्रैश हुआ सुखोई, दोनों पायलट सुरक्षित
  • 'लालू परिवार' हुआ रघुवंश से नाराज, राबड़ी ने बयान को बोला फूहड़
  • गिलगित-बाल्टिस्तान क्षेत्र को पांचवां प्रांत घोषित करने की तैयारी में पाकिस्तान
  • सिद्धू को मिल सकता है कांग्रेस से झटका, अमरिंदर नहीं चाहते कोई डिप्टी CM
  • लोकसभा में भाजपा सांसदों ने किया पीएम मोदी का स्वागत, लगे 'जयश्री राम' के नारे
  • पंजाब और गोवा विधानसभा चुनावों में मिली हार के बाद आम आदमी पार्टी में फूट के आसार!

होम |

दुनिया

यात्र बैन को चुनौती देने हवाई को मिली अनुमति

By Raj Express | Publish Date: 3/10/2017 11:31:27 AM
यात्र बैन को चुनौती देने हवाई को मिली अनुमति

वाशिंगटन।  अमेरिकी जिला अदालत ने गुरुवार को हवाई स्टेट को राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के हाल के नए कार्यकारी आदेश के खिलाफ शिकायत दर्ज कराने की अनुमति दे दी। न्यायधीश डेरिक वाटसन ने कहा कि ट्रम्प के सात मुस्लिम बहुल देशों के नागरिकों को अमेरिका की यात्र प्रतिबंधित करने के नए कार्यकारी आदेश के खिलाफ हवाई स्टेट शिकायत दर्ज करा सकता है।हवाई फेडरल कोर्ट में जज ने कहा कि हवाई स्टेट शुरूआती मुकदमे ठोक सकता है, जिसने जनवरी में ट्रम्प के मूल प्रतिबंध को चुनौती दिया था। हवाई स्टेट ने दावा किया था कि सोमवार को राष्ट्रपति द्वारा हस्ताक्षरित संशोधित प्रतिबंध अमेरिकी संविधान का उल्लंघन है । अमेरिकी अस्पताल ने ट्रम्प के स्वास्थ्य बिल का विरोध किया: अमेरिका में एक शीर्ष व्यापार समूह द्वारा संचालित एक अस्पताल ने रिपब्लिकन हेल्थकेयर बिल को लेकर चिंता प्रकट किया है और कहा है कि इससे गरीब अमेरिकी अपना बीमा खो सकते हैं। अमेरिकन हॉस्पीटल एसोसिएशन ने कहा कि इस बिल में किये गये मौजूदा प्रावधान हमारे सबसे कमजोर वर्ग के लोगों को बाहर निकाल देगा। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इस स्वास्थ्य बिल को लेकर बुधवार को अपने सांसदों से मुलाकात की थी। यह बिल राष्ट्रपति बराक ओबामा के हेल्थ बिल‘ओबामाकेयर’का स्थान लेगा जिसका नाम अमेरिकन हेल्थकेयर बिल कहा गया है।॥-1B वीजा कार्यक्रम के खिलाफ कांग्रेस में कई बिल पेश ट्रंप प्रशासन की ओर से एच-1बी वीजा सुधारों पर गंभीरता से विचार के बीच यूएस प्रतिनिधि सभा एवं सेनेट के भीतर कम से कम छह विधेयक पेश किए गए हैं, जिनमें दलील दी गई है कि भारतीय आईटी कंपनियों के बीच लोकप्रिय एच-1बी कार्यक्रम अमेरिकी नौकरियां खा रहा है। इन विधेयकों को डेमोक्रेटिक और रिपब्लिकन दोनों पक्षों के सदस्यों ने रखा है। इनका मानना है कि एच-1बी कार्य वीजा यूएस कामगारों को नौकरियों से बेदखल करने वाला है। कई शोध विद्वानों, अर्थशास्त्रियों और सिलिकन वैली के कार्यकारियों ने इस दलील के विपरीत राय दी है, लेकिन ये बिल इस पर आधारित हैं कि भारतीय टेक्नॉलजी कंपनियां अमेरिकी नौकरियां खा रही हैं। ट्रंप के राष्ट्रपति पद का पदभार संभालने के बाद एक सप्ताह के भीतर रिपब्लिकन सेनेटर चक ग्रैसले और सेनेट में अल्पमत पक्ष के सहायक नेता डिक डर्बन ने ‘एच-1बी एवं एल-1 वीजा सुधार अधिनियम’ पेश किया था ताकि अमेरिकी कामगारों को प्राथमिकता दी जाए और कुशल कामगारों के लिए वीजा कार्यक्रम में निष्पक्षता बहाल की जाए। कुवैत में एक हजार सैनिकों की तैनाती करेगा अमेरिकी-ट्रंप प्रशासन कुवैत में आतंकी संगठन आईएस के खिलाफ लड़ने के लिए रिजर्व बल के रूप में एक हजार से अधिक सैनिकों की तैनाती करेगा। इससे अमेरिकी कमांडरों को युद्धक्षेत्र में चुनौतियों और तत्काल जवाब देने के लिए जमीन उपलब्ध हो सकेगा। उन्होंने कहा कि यह फैसला ओबामा सरकार के कदम से एक कदम आगे बढ़कर लिया गया है।  इसकी तैनाती कुवैत में मौजूद अमेरिकी सैनिकों की मौजूदगी से भिन्न होगी। यूएस-उ.कोरिया से टकराव टालने की अपील-बीजिंग। चीन ने अमेरिका और उत्तर कोरिया को टकराव से बचने की अपील की है। चीन ने कोरियाई प्रायद्वीप पर बढ़ते तनाव के बीच अमेरिका-दक्षिण कोरिया संयुक्त सैन्य अभ्यास पर रोक लगाने के लिए उत्तर कोरिया से अपनी परमाणु और मिसाइल गतिविधियों को निलंबित करने की अपील की है। चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने कहा कि कोरियाई प्रायद्वीप पर मंडरा रहे संकट को कम करने के लिए चीन का प्रस्ताव है कि पहले उत्तर कोरिया अपने परमाणुा और मिसाइल गतिविधियों को निलंबित करे और बदले में अमेरिका-दक्षिण कोरिया अपने सैनिक अभ्यास पर रोक लगाए। वांग ने कहा कि दोनों ही पक्ष तेज गति से एक दूसरे के नजदीक आती ऐसी ट्रेनों की तरह हैं, जो एक दूसरे को रास्ता देने के लिए तैयार नहीं हैं। सवाल यह है कि क्या दोनों ही पक्ष टकराव के लिए तैयार हैं? हमारी प्राथमिकता अभी रेड लाइट दिखाना और दोनों ही ट्रेनों पर ब्रेक लगाना है। प्योंगयांग ने सोमवार को समुद्र में जापान की दिशा में चार मिसाइल दागे, इनमें से तीन रॉकेट जापान के विशिष्ट आर्थिक क्षेत्र में गिरे थे।

 

Contact us: contact@rajexpress.com
Copyright © 2016 RajExpress.com. All Rights Reserved.
Designed by : 4C Plus