• 14 साल की लड़की को बंधक बना 1000 लोगों से बनवाया शारीरिक संबंध
  • प्रशांत भूषण को पीटने वाले को बीजेपी ने बनाया प्रवक्ता
  • राजस्थान: लैंडिंग से पहले बाड़मेर में क्रैश हुआ सुखोई, दोनों पायलट सुरक्षित
  • 'लालू परिवार' हुआ रघुवंश से नाराज, राबड़ी ने बयान को बोला फूहड़
  • गिलगित-बाल्टिस्तान क्षेत्र को पांचवां प्रांत घोषित करने की तैयारी में पाकिस्तान
  • सिद्धू को मिल सकता है कांग्रेस से झटका, अमरिंदर नहीं चाहते कोई डिप्टी CM
  • लोकसभा में भाजपा सांसदों ने किया पीएम मोदी का स्वागत, लगे 'जयश्री राम' के नारे
  • पंजाब और गोवा विधानसभा चुनावों में मिली हार के बाद आम आदमी पार्टी में फूट के आसार!

होम |

बिज़नेस

BSNL-MTNL के विलय पर लोकसभा में पेश की रिपोर्ट

By Raj Express | Publish Date: 3/17/2017 5:33:14 PM
BSNL-MTNL के विलय पर लोकसभा में पेश की रिपोर्ट
नई दिल्ली। संसद की एक समिति ने सार्वजनिक क्षेत्र की दूरसंचार कंपनी BSNL-MTNL के विलय का सुझाव दिया है। इसका मतलब साफ है कि MTNL खत्म होकर BSNL रह जाएगी। भाजपा सांसद भगत सिंह कोशयारी की अध्यक्षता वाली स्थायी समिति ने गुरुवार को लोकसभा में पेश की अपनी रिपोर्ट में यह सुझाव दिया है। इसके अनुसार समिति का मानना है कि इन कंपनियों की दीर्घकालिक सफलता के लिए विलय एक अच्छा प्रस्ताव हो सकता है।
 रिपोर्ट : संसदीय समिति ने सरकार को सुझाव दिया कि वह महानगर टेलिफोन निगम लिमिटेड {MTNL}और भारत संचार निगम लिमिटेड {BSNL} के मर्जर की संभावनाओं का पता लगाने के लिए एक्‍सपर्ट कमिटी गठित करे। संसदीय समि‍ति ने लोकसभा में अपनी रिपोर्ट पेश की। मर्जर होने के बाद ये दोनों कंपनियां प्राइवेट प्‍लेयर्स के खिलाफ मजबूती से खड़ी हो पाएंगे और इनसे कम्‍पीट कर पाएंगी। पैनल ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि मर्जर के चलते इन इनकी सर्विस में भी काफी सुधार होगा। मर्जर के अलावा पैनल ने सुझाव दिया है कि टेक्‍नोलॉजिक एडवासंमेंट और नेटवर्क इम्‍प्रूवमेंट करने के साथ ही वन-टाइम फंड इन कंपनियों को दिया जाए। ताकि दोनों कंपनियों के प्रदर्शन में सुधार हो सके।  BSNL और MTNL के अधिकारियों ने फिर से विलय को लेकर टेलीकॉम विभाग के अधिकारियों ने बातचीत शुरू कर दी है। बढ़ती प्रतिस्पर्धा के कारण दोनों कंपनियों पर दबाव है इसलिए सरकार कंपनियों के विलय पर विचार कर रही है। दूरसंचार क्षेत्र में बढ़ती प्रतिस्पर्धा के कारण इन इकाइयों के सामने भारी वित्तीय दबाव है। बीएसएनएल ने पहले चरण में गुड़गांव, नोएडा व फरीदाबाद में एमटीएनएल के मोबाइल परिचालन को लेने की इच्छा जताई है। इन इलाकों में बीएसएनएल की लैंडलाइन व ब्रॉडबैंड सेवाए हैं। अन्य विकल्प मुंबई व दिल्ली में एमटीएनएल के मोबाइल परिचालन का अधिग्रहण है। एमटीएनएल इन दो महानगरों में सेवाएं देती है जबकि शेष भारत में बीएसएनएल का परिचालन है। इन कंपनियों के विलय का प्रस्ताव बहुत साल पहले तत्कालीन दूरसंचार मंत्री प्रमोद महाजन ने रखा था। एमटीएनएल दिल्ली और मुंबई में ऑपरेट करता है जबकि बीएसएनएल देश के अन्य भागों में अपनी सेवा प्रदान करता है। 61,622 मोबाइल टावर्स के साथ बीएसएनएल सभी टेलिकॉम सर्विस ऑपरेटरों में दूसरा सबसे बड़ा पोर्टफोलियो है
Contact us: contact@rajexpress.com
Copyright © 2016 RajExpress.com. All Rights Reserved.
Designed by : 4C Plus