• 14 साल की लड़की को बंधक बना 1000 लोगों से बनवाया शारीरिक संबंध
  • प्रशांत भूषण को पीटने वाले को बीजेपी ने बनाया प्रवक्ता
  • राजस्थान: लैंडिंग से पहले बाड़मेर में क्रैश हुआ सुखोई, दोनों पायलट सुरक्षित
  • 'लालू परिवार' हुआ रघुवंश से नाराज, राबड़ी ने बयान को बोला फूहड़
  • गिलगित-बाल्टिस्तान क्षेत्र को पांचवां प्रांत घोषित करने की तैयारी में पाकिस्तान
  • सिद्धू को मिल सकता है कांग्रेस से झटका, अमरिंदर नहीं चाहते कोई डिप्टी CM
  • लोकसभा में भाजपा सांसदों ने किया पीएम मोदी का स्वागत, लगे 'जयश्री राम' के नारे
  • पंजाब और गोवा विधानसभा चुनावों में मिली हार के बाद आम आदमी पार्टी में फूट के आसार!

होम |

बिज़नेस

नोटबंदी के बाद कालेधन पर मिला 6000 करोड़ रुपए का टैक्स

By Raj Express | Publish Date: 3/19/2017 12:09:42 PM
नोटबंदी के बाद कालेधन पर मिला 6000 करोड़ रुपए का टैक्स
नई दिल्ली। नोटबंदी के बाद से सामने आए अघोषित आय पर अब 6000 करोड़ रूपये का टैक्स वसूला गया है। काले धन पर गठित विशेष जांच दल एसआईटी उपाध्यक्ष जस्टिस अरिजित पसायत ने यह जानकारी देते हुए संभावना जताई कि टैक्स के रूप में सरकारी खजाने में आई यह राशि आगे और बढ़ सकती है।
काले धन पर नकेल के मकसद से 500 और 1000 रुपए के पुराने नोटों का चलन बंद किए जाने के बाद टैक्स अधिकारियों ने उन लोगों से जवाब तलब किया था। जिन्होंने अपने और दूसरों के अकाउंट में जमा बड़ी रकम जमा करायी थी। इनमें से कई लोग तो अपनी अघोषित आय पर जुर्माने के रूप में 60 फीसदी टैक्स देने को तैयार हो गए जो कि अब बढ़ाकर 75 फीसदी कर दी गई है। काले धन के खिलाफ (सीबीआई) प्रवर्तन निदेशालय केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड सीबीटीडी सहित दूसरी एजेंसियों की मुहिम की निगरानी कर रहे एसआईटी अध्यक्ष जस्टिस एमबी शाह के साथ इस काम में जुटे पसायत ने कहा कि टैक्स अधिकारियों ने अब तक करीब 6000 करोड़ रुपये इकट्ठे किए हैं। एसआईटी उपाध्यक्ष पसायत ने यह बताने से तो इनकार कर दिया कि इस जुर्माने से कुल कितना धन एकत्र होने का अनुमान है, लेकिन इतना जरूर कहा कि यह राशि काफी ज्यादा होने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि नोटबंदी के बाद काले धन के खिलाफ चलाई गई मुहिम के पहले चरण में 50 लाख रुपये या उससे ज्यादा रकम जमा करने वालों पर नजर रखी गई। उन्होंने बताया कि इन जमाकर्ताओं को ईमेल और एसएमएस भेजे गए जिस पर कई लोग सजा से बचने के लिए टैक्स अदा करने को तैयार हो गए। पसायत ने बताया कि ओडिशा जैसे गरीब माने जाने वाले राज्य में हजारों लोगों को ऐसे ईमेल और एसएमएस भेजे गए हैं। उन्होंने कहा कि 50 लाख रुपये जमा कराने वाले 1092 लोगों ने नोटिस का जवाब नहीं दिया है। उन्होंने कहा कि जमा की गई हर राशि को जांचने में टैक्स अधिकारियों को कड़ी मशक्कत करनी पड़ी है। उन्होंने बताया कि बैंक खातों में बड़ी राशि जमा करने वाले व्यापारियों को पिछले तीन साल का बैलेंस शीट पेश करने के साथ ही हर साल के टैक्स रिटर्न का ब्यौरा भी मांगा गया है। एसआईटी उपाध्यक्ष पसायत ने बताया कि टैक्स अधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि वे बड़ी राशि जमा कराने वाले सरकारी अधिकारियों के साथ सख्ती से पेश आएं। 
उनकी तरफ से जमा कराई गई अघोषित नकदी को भ्रष्टाचार निरोधक कानून के तहत जब्त किया जाएगा। उन्होंने आगे कहा कि ओडिशा में एक वन मंडल अधिकारी डीएफओ ने 2.5 करोड़ रुपए जमा कराए हैं। जाहिर है कि वह इस राशि का स्रोत नहीं बता सकते। ऐसे में उनका पूरा पैसा जब्त कर लिया जाएगा, क्योंकि यह रिश्वत का पैसा है। वहीं टैक्स चोरी के लिए मोसैक फोंसेक कंपानी के जरिये विदेशों में शेल कंपनियां स्थापित करने के आरोपों में घिरे करीब 500 भारतीयों और एनआरआई से जुड़े पनामा पेपर्स मामले पर पसायत ने बताया कि सभी को नोटिस जारी की गई थी, लेकिन 200 से ज्यादा ने इसका कोई जवाब नहीं दिया। वह कहते हैं अधिकारियों ने 45 लोगों के खिलाफ अभियोजन शुरू किया है।
Contact us: contact@rajexpress.com
Copyright © 2016 RajExpress.com. All Rights Reserved.
Designed by : 4C Plus