• 14 साल की लड़की को बंधक बना 1000 लोगों से बनवाया शारीरिक संबंध
  • प्रशांत भूषण को पीटने वाले को बीजेपी ने बनाया प्रवक्ता
  • राजस्थान: लैंडिंग से पहले बाड़मेर में क्रैश हुआ सुखोई, दोनों पायलट सुरक्षित
  • 'लालू परिवार' हुआ रघुवंश से नाराज, राबड़ी ने बयान को बोला फूहड़
  • गिलगित-बाल्टिस्तान क्षेत्र को पांचवां प्रांत घोषित करने की तैयारी में पाकिस्तान
  • सिद्धू को मिल सकता है कांग्रेस से झटका, अमरिंदर नहीं चाहते कोई डिप्टी CM
  • लोकसभा में भाजपा सांसदों ने किया पीएम मोदी का स्वागत, लगे 'जयश्री राम' के नारे
  • पंजाब और गोवा विधानसभा चुनावों में मिली हार के बाद आम आदमी पार्टी में फूट के आसार!

होम |

राज्य

फर्जी पंचनामे बने अधिकारियों के गले की हड्डी...

By Raj Express | Publish Date: 2/28/2017 3:00:12 PM
फर्जी पंचनामे बने अधिकारियों के गले की हड्डी...

ग्वालियर। किसान अनुदान योजना में लगाए गए 59 अवैध ट्रांसफार्मरों की जांच चल रही है। जिन 59 लोगों के खिलाफ कंपनी ने शिकायत दर्ज कराई है उनके खिलाफ कंपनी ने एक ही दिन कंपनी कार्यालय में बैठकर पंचनामें भरवाए हैं। यह आरोप कंपनी अधिकारियों ने लगाए हैं। इन आरोपों के बाद अब इन पंचनामों की जांच की जाएगी।अभी-तक कंपनी प्रबंधन इस बात को फॉलो कर रहा था कि डबरा संभाग में जो 59 प्रकरण पकड़ में आए हैं। वह कंपनी अधिकारियों की सतर्कता से पकड़ में आए हैं। लेकिन जैसे-जैसे इस मामले की जांच आगे बढ़ रही है। यह बात सामने आ रही है कि यह प्रकरण कंपनी अधिकारियों की सर्तकता से सामने नहीं आए हैं,बल्कि इन प्रकरणों को जानबूझकर बनाया गया है। जांच के दौरान यह बात सामने आ रही बताई जाती है कि प्रकरणों को बनाने के दौरान जो पंचनामे बनाए गए हैं। वह फर्जी हैं तथा उनके बनाने में जो गलतियां की गई हैं। वह अब इस मामले का खुलासा करने में सहायक रहेंगी। अधिकारियों ने इस बात का खुलासा किया है कि पंचनामे फर्जी हैं तथा इनको कं पनी के कार्यालय में बैठकर बनाया है वहीं दूसरी तरफ पंचनामें भी इस बात की तरफ संकेत कर रहे हैं क्योंकि 80 प्रतिशत पंचनामों में यह लिखा है कि उपभोक्ता ने हस्ताक्षर करने से इनकार कर दिया है।

9 महिलाओं ने किए हस्ताक्षर
मंजीत कौर पत्नी जसवंत सिंह सिक्ख, बेटी बाई पत्नी घनश्याम सिंह बघेल, राजाबेटी पत्नी रघुनाथ सिंह कुशवाह, विमला देवी पत्नी विद्याराम बघेल, जमीला बानो पत्नी मुंशी शाह, मुन्नी बाई पत्नी रमेश कुशवाह शामिल हैं। यह वह महिलाएं हैं जिन्होंने पंचनामे पर हस्ताक्षर किए हैं। अब कंपनी अधिकारी इन महिलाओं से मिलकर मामले की सत्यता जानने की कोशिश करेंगे। 
जांच को प्रभावित कर रहे अधिकारी
जांच के दौरान यह बात भी सामने आई है कि डबरा डिवीजन के अधिकारी जांच को प्रभावित कर रहे हैं। इसलिए इन अधिकारियों के हस्तक्षेप से बचने कंपनी इनको वहां से हटा सकती है। फिलहाल इस बात की जांच चल रही है कि यह फर्जीवाड़ा कब से चल रहा था और इसमें शामिल लोगों की कहां तक भूमिका है।
Contact us: contact@rajexpress.com
Copyright © 2016 RajExpress.com. All Rights Reserved.
Designed by : 4C Plus