• 14 साल की लड़की को बंधक बना 1000 लोगों से बनवाया शारीरिक संबंध
  • प्रशांत भूषण को पीटने वाले को बीजेपी ने बनाया प्रवक्ता
  • राजस्थान: लैंडिंग से पहले बाड़मेर में क्रैश हुआ सुखोई, दोनों पायलट सुरक्षित
  • 'लालू परिवार' हुआ रघुवंश से नाराज, राबड़ी ने बयान को बोला फूहड़
  • गिलगित-बाल्टिस्तान क्षेत्र को पांचवां प्रांत घोषित करने की तैयारी में पाकिस्तान
  • सिद्धू को मिल सकता है कांग्रेस से झटका, अमरिंदर नहीं चाहते कोई डिप्टी CM
  • लोकसभा में भाजपा सांसदों ने किया पीएम मोदी का स्वागत, लगे 'जयश्री राम' के नारे
  • पंजाब और गोवा विधानसभा चुनावों में मिली हार के बाद आम आदमी पार्टी में फूट के आसार!

होम |

राज्य

सीएम व अन्य को हाईकोर्ट से राहत

By Raj Express | Publish Date: 3/16/2017 1:17:30 PM
सीएम व अन्य को हाईकोर्ट से राहत
जबलपुर। मप्र हाईकोर्ट से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान व अन्य दो लोगों को बड़ी राहत मिली है। जस्टिस वीके शुक्ला की एकलपीठ ने भोपाल गुरुद्वारे में तलवार भेंट लेने व देने संबंधी मामले में आर्म्स एक्ट के तहत प्रकरण दर्ज किए जाने के लिए दायर याचिका खारिज यह कहते हुए खारिज कर दी कि कानूनी प्रावधान होने के बावजूद भी आवेदक ने सीधे रिट याचिका दायर कर दी, हालांकि विस्तृत आदेश फिलहाल प्रतीक्षित है। 
उल्लेखनीय है कि यह याचिका अजीत सिंह आनंद उर्फ मंगे सरदार की ओर से दायर की गई है। जिसमें कहा गया है कि हाईकोर्ट के स्पष्ट आदेश है कि मप्र में सिक्ख समुदाय के लोग छह से नौ इंच की कृपाण रख सकते हैं, वह भी शरीर के वस्त्रों के अंदर गातरे में। इसके बावजूद भी हमीदिया गुरुद्वारा में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को तलवार भेंट की गई, जो शस्त्र की श्रेणी में आती है। मुख्यमंत्री को तलवार देते हुए फोटो भी फेसबुक में है और लोगों ने लाइक भी किया है। 
आवेदक का कहना है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को गुरुद्वारे के प्रेसीडेंट दिलीप सिंह तथा इंद्रपाल सिंह ने तलवार भेंट की थी। तीनों के खिलाफ आर्म्स एक्ट के तहत प्रकरण दर्ज किए जाने की मांग करते हुए डीजीपी से शिकायत की गई, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई, जिस पर हाईकोर्ट की शरण ली गई है। मामले में गृह विभाग, डीजीपी, एसपी भोपाल सहित मुख्यमंत्री चौहान व दिलीप सिंह और इंद्रपाल सिंह को पक्षकार बनाया गया था।
 मामले में बुधवार को सुनवाई दौरान शासन की ओर से न्यायालय के समक्ष ग्वालियर खंडपीठ द्वारा दिए गए आदेश का हवाला देते हुए कहा गया कि किसी के भी खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की मांग को लेकर सीधे उच्च न्यायालय में रिट याचिका दायर करना कानूनी प्रक्रिया का उल्लंघन है। इसके लिए जिला न्यायालय में सीआरपीसी धाराओं के तहत आवेदन करने का प्रावधान है। शासन की ओर से दी गई दलीलों पर गौर करने के बाद न्यायालय ने दायर याचिका खारिज कर दी। मामले में राज्य सरकार की ओर से महाधिवक्ता रवीशचंद्र अग्रवाल व शासकीय अधिवक्ता स्वप्निल गांगुली हाजिर हुए।
Contact us: contact@rajexpress.com
Copyright © 2016 RajExpress.com. All Rights Reserved.
Designed by : 4C Plus