• 14 साल की लड़की को बंधक बना 1000 लोगों से बनवाया शारीरिक संबंध
  • प्रशांत भूषण को पीटने वाले को बीजेपी ने बनाया प्रवक्ता
  • राजस्थान: लैंडिंग से पहले बाड़मेर में क्रैश हुआ सुखोई, दोनों पायलट सुरक्षित
  • 'लालू परिवार' हुआ रघुवंश से नाराज, राबड़ी ने बयान को बोला फूहड़
  • गिलगित-बाल्टिस्तान क्षेत्र को पांचवां प्रांत घोषित करने की तैयारी में पाकिस्तान
  • सिद्धू को मिल सकता है कांग्रेस से झटका, अमरिंदर नहीं चाहते कोई डिप्टी CM
  • लोकसभा में भाजपा सांसदों ने किया पीएम मोदी का स्वागत, लगे 'जयश्री राम' के नारे
  • पंजाब और गोवा विधानसभा चुनावों में मिली हार के बाद आम आदमी पार्टी में फूट के आसार!

होम |

राज्य

कांग्रेस को अटेर, बीजेपी को बांधवगढ़ बचाने की चुनौती

By Raj Express | Publish Date: 3/16/2017 2:57:10 PM
कांग्रेस को अटेर, बीजेपी को बांधवगढ़ बचाने की चुनौती
भोपाल। बीजेपी और कांग्रेस ने बुधवार को एक साथ भिंड जिले के अटेर और उमरिया जिले के बांधवगढ़ विधानसभा उपचुनावों के लिए प्रत्याशी घोषित कर दिए। हालांकि, बीजेपी प्रत्याशियों के नामों पर औपचारिक मुहर दिल्ली से लगेगी। दरअसल, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की मौजूदगी में हुई प्रदेश चुनाव समिति की बैठक में एक-एक नाम तय कर पैनल दिल्ली भेजा गया है। बकौल, प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान, अटेर से अरविंद भदौरिया और बांधवगढ़ से शिवनारायण सिंह का नाम तय किया गया है, जिसका अनुमोदन दिल्ली करेगा।
प्रदेश चुनाव समिति की बैठक में सीएम और बीजेपी चीफ के अलावा पूर्व मुख्यमंत्री कैलाश जोशी, प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत, कृष्णमुरारी मोघे, रामकृष्ण कुसमरिया, केंद्रीय मंत्री फग्गनसिंह कुलस्ते, श्रीमती लता ऐलकर उपस्थित थीं। प्रदेश अध्यक्ष चौहान ने मीडिया से चर्चा में कहा कि संसद के सत्र के कारण लोकसभा और राज्यसभा से जुड़े वरिष्ठ सदस्य शामिल नहीं हो सके। बैठक में केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं प्रदेश संगठन प्रभारी डॉ. विनय सहस्रबुद्धे, प्रभात झा समेत अन्य सदस्य मौजूद नहीं थे। उधर, प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव ने बताया कि हाईकमान ने अटेर से स्व. सत्यदेव कटारे के बेटे हेमंत कटारे और बांधवगढ़ से श्रीमती सावित्री सिंह को पार्टी प्रत्याशी घोषित किया है। 
खास पहलू यह है कि बीजेपी और कांग्रेस का सबसे ज्यादा फोकस नेता प्रतिपक्ष रहे सत्यदेव कटारे के निधन से रिक्त हुई अटेर सीट के उपचुनाव पर है। कांग्रेस के सामने अपनी इस सीट को बचाए रखने की एक बड़ी चुनौती है। पार्टी के रणनीतिकारों ने स्व. कटारे के बेटे हेमंत कटारे को यहां से चुनाव मैदान में उतारकर संभवत: सहानुभूति लहर के सहारे चुनावी नैया पार लगाने की रणनीति को अपनाया है।
 उधर, भाजपा के रणनीतिकारों ने एक बार फिर अरविंद भदौरिया को चुनाव मैदान में उतारकर अपनी पिछली हार का बदला लेने की रणनीति अपनाई है। एक ओर जहां कटारे ने अपने नाम के ऐलान से पहले चुनावी तैयारियों को अंजाम देना शुरू कर दिया था, वहीं भदौरिया भी पिछले दो महीने से क्षेत्र में सक्रिय बने हुए हैं। खास बात यह है कि अटेर उपचुनाव को लेकर प्रत्याशियों के नाम पहले से ही तय थे और बुधवार को दोनों दलों ने महज औपाचारिक ऐलान किया है। उल्लेखनीय है कि 2008 के चुनाव में अरविंद सिंह भदौरिया ने कांग्रेस के सत्यदेव कटारे को 1851 वोटों से पराजित किया था, लेकिन 2013 में कटारे ने भदौरिया को 11426 वोटों से पराजित कर दिया था। इस लिहाज से उतार-चढ़ाव वाले इस क्षेत्र के मतदाता इस बार किसका साथ देंगे, देखना बड़ा दिलचस्प होगा। 
 
Contact us: contact@rajexpress.com
Copyright © 2016 RajExpress.com. All Rights Reserved.
Designed by : 4C Plus