• 14 साल की लड़की को बंधक बना 1000 लोगों से बनवाया शारीरिक संबंध
  • प्रशांत भूषण को पीटने वाले को बीजेपी ने बनाया प्रवक्ता
  • राजस्थान: लैंडिंग से पहले बाड़मेर में क्रैश हुआ सुखोई, दोनों पायलट सुरक्षित
  • 'लालू परिवार' हुआ रघुवंश से नाराज, राबड़ी ने बयान को बोला फूहड़
  • गिलगित-बाल्टिस्तान क्षेत्र को पांचवां प्रांत घोषित करने की तैयारी में पाकिस्तान
  • सिद्धू को मिल सकता है कांग्रेस से झटका, अमरिंदर नहीं चाहते कोई डिप्टी CM
  • लोकसभा में भाजपा सांसदों ने किया पीएम मोदी का स्वागत, लगे 'जयश्री राम' के नारे
  • पंजाब और गोवा विधानसभा चुनावों में मिली हार के बाद आम आदमी पार्टी में फूट के आसार!

होम |

लेख

मोह और प्रेम एक ही हैं या कोई अंतर है

By Raj Express | Publish Date: 2/23/2017 1:05:43 PM
मोह और प्रेम एक ही हैं या कोई अंतर है

 अर्जुन ने युद्ध के मैदान में अपने विरोध में खड़े सभी सगे-संबंधियों को देखकर हथियार डाल दिए थे। उसके पीछे केवल उसका मोह था। जो उसे युद्ध नहीं करने दे रहा था।प्रेम में आनंद है पर मोह में उलझन है। असल में हमें संसार में बांधे रखने काम मोह करता है क्योंकि यह मोह मन का एक विकार है। जब प्रेम गिने-चुने लोगों से होता है। हद से ज्यादा होता है।सीमित होता है। तब वह मोह कहलाता है। इसके संस्कार चित्त में इकट्ठा होते रहते है। जिससे इसकी जड़ें पक्की हो जाती हैं और कई बार चाहकर भी हम मोह को नहीं छोड़ पाते। हम मोह को ही प्रेम मान लेते हैं। जैसे युवक-युवती आपस में आसक्त होकर प्रेम करते हैं और उसे प्रेम कहते हैं।जबकि वह प्रेम नहीं मोह है। मां-बाप जब केवल अपने बच्चे को प्रेम करते हैं तो वह भी मोह कहलाता है। मोह का मतलब होता है आसक्ति जो गिने चुने उन लोगों या चीजों से होती है।जिन्हें हम अपना बनाना चाहते हैं। जिनके पास हम ज्यादा से ज्यादा समय गुजारना चाहते हैं। मोह वहां होता है। जहां हमें सुख मिलने की उम्मीद हो या सुख मिलता हो। अलौकिक प्रेम यानी ईश्वरीय प्रेम। सांसारिक प्रेम मोह कहलाता है और ईश्वरीय के प्रति लगाव प्रेम कहलाता है। इसी मोह की वजह से व्यक्ति कभी सुखी तो कभी दुखी होता रहता है। मोह की वजह से द्वेष पैदा होता है। मोह जन्म-मरण का कारण है। क्योंकि इसके संस्कार बनते हैं। लेकिन ईश्वरीय प्रेम के संस्कार नहीं बनते बल्कि वह तो चित्त में पड़े संस्कारों के नाश के लिए होता है। प्रेम का अर्थ है मन में सबके लिए एक जैसा भाव। जो सामने आए उसके लिए भी प्रेम जिसका ख्याल भीतर आए उसके लिए भी प्रेम। परमात्मा की बनाई हर वस्तु से एक जैसा प्रेम। जैसे सूर्य सबके लिए एक जैसा प्रकाश देता है।वह भेद नहीं करता। जैसे हवा भेद नहीं करती, नदी भेद नहीं करती, ऐसे ही हम भी भेद न करें। तेरा मेरा छोड़कर सबके साथ समान भाव में आ जाएं। अपने मोह को बढ़ाते जाओ। इतना बढ़ाओ कि सबके लिए एक जैसा भाव भीतर से आने लगे। फिर वह कब प्रेम में बदल जाएगा।पता ही नहीं चलेगा। यही अध्यात्म का गहन रहस्य है। 

Contact us: contact@rajexpress.com
Copyright © 2016 RajExpress.com. All Rights Reserved.
Designed by : 4C Plus