• 14 साल की लड़की को बंधक बना 1000 लोगों से बनवाया शारीरिक संबंध
  • प्रशांत भूषण को पीटने वाले को बीजेपी ने बनाया प्रवक्ता
  • राजस्थान: लैंडिंग से पहले बाड़मेर में क्रैश हुआ सुखोई, दोनों पायलट सुरक्षित
  • 'लालू परिवार' हुआ रघुवंश से नाराज, राबड़ी ने बयान को बोला फूहड़
  • गिलगित-बाल्टिस्तान क्षेत्र को पांचवां प्रांत घोषित करने की तैयारी में पाकिस्तान
  • सिद्धू को मिल सकता है कांग्रेस से झटका, अमरिंदर नहीं चाहते कोई डिप्टी CM
  • लोकसभा में भाजपा सांसदों ने किया पीएम मोदी का स्वागत, लगे 'जयश्री राम' के नारे
  • पंजाब और गोवा विधानसभा चुनावों में मिली हार के बाद आम आदमी पार्टी में फूट के आसार!

होम |

संपादकीय

दांव पर है एग्जिट पोल की साख

By Raj Express | Publish Date: 3/11/2017 11:27:57 AM
दांव पर है एग्जिट पोल की साख
जिस समय आप यह आलेख पढ़ रहे होंगे, उस समय एग्जिट पोल की हकीकत सामने आनी शुरू हो गई होगी। अगर एग्जिट पोल के नतीजे असल परिणामों के आसपास आए तो इनकी प्रशंसा भी जरूर होगी, लेकिन दिल्ली और बिहार विधानसभा के पिछले चुनाव नतीजों की तरह एग्जिट पोल के अनुमान फिर फेल हो गए, तो समझिए कि इनसे जनता का भरोसा डिगने की शुरुआत भी इसी चुनाव से हो जाएगी। पिछले कुछ नतीजों से पहले चाणक्य के एग्जिट पोल ने सटीक अनुमान से अपनी साख बनाई थी। दिल्ली विधानसभा के 2013 के चुनावों में वह अकेला ऐसा एग्जिट पोल था, जिसने आम आदमी पार्टी को खासी बढ़त दिखाई थी। जबकि ज्यादातर एग्जिट पोल भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनते दिखा रहे थे और कांग्रेस को दूसरे नंबर की पार्टी बता रहे थे। लेकिन जब असल परिणाम आए, तब आम आदमी पार्टी ने सारे अनुमानों को ध्वस्त करते हुए नंबर दो का दर्जा हासिल कर लिया था। सत्ताधारी कांग्रेस पार्टी दहाई के आंकड़े तक भी नहीं पहुंच पाई व बीजेपी बहुमत का आंकड़ा भी नहीं छू पाई। करीब एक साल बाद जब फिर दोबारा चुनाव हुए, तब चाणक्य ने इसी साख का इस्तेमाल करते हुए दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार का अनुमान लगाया और उस अनुमान से भी कहीं ज्यादा केजरीवाल के नेतृत्व वाली इस पार्टी को जीत हासिल हुई, तो उसके एग्जिट पोल का दुनिया में सिक्का जम गया। कुछ इसी अंदाज में उसने बिहार विधानसभा चुनाव में अन्य एग्जिट पोल नतीजों से अलग अनुमान लगाया। उसने भारतीय जनता पार्टी की जीत दिखा दी। लेकिन परिणाम लालू-नीतीश और कांग्रेस गठबंधन के पक्ष में आए। जब एग्जिट पोल के नतीजे आए, तब बीजेपी अपनी जीत को लेकर आश्वस्त नजर आने लगी और उसके नेताओं ने चाणक्य के पिछले दावों को देखते हुए दूसरे एग्जिट पोल के परिणामों को झुठलाना शुरू कर दिया। यह बात और है कि आठ नवंबर 2015 को जब नतीजे आए तो हालात बदल चुके थे। चाणक्य के अनुमान आंधी में गिरे बड़े पेड़ की तरह धराशायी नजर आ रहे थे। पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनावों को लेकर जो एग्जिट पोल के नतीजे आए, वे कमोबेश एक जैसे ही हैं। यदि कुछ फर्क है तो सीटों की संख्या को लेकर। इंडिया टुडे-एक्सिस के एग्जिट पोल के नतीजों में भारतीय जनता पार्टी को 251 से 259 सीटें मिलने का अनुमान है, तो दूसरे स्थान पर समाजवादी-कांग्रेस गठबंधन को दिखाया गया, जिसे 88 से 112 सीटें मिलने का अनुमान है। तीसरे स्थान पर बसपा को रखा गया है, जिसे महज 28 से 42 सीटें मिलने की भविष्यवाणी की गई। टाइम्स नाऊ-वीएमआर के एग्जिट पोल में बीजेपी को 190-210 सीटें, सपा-कांग्रेस को 110-130 सीटें, बसपा को 57 से 74 सीटें दी गई हैं। एबीपी-सीएसडीएस के सर्वे में भी भारतीय जनता पार्टी सबसे बड़ी पार्टी है।
लेकिन उसे सिर्फ 164-176 सीटें मिलती बताई गई हैं, जबकि सपा-कांग्रेस को 156-169 और बसपा को 60-72 सीटें मिल रही हैं। सबसे मजेदार एग्जिट पोल उस इंडिया टीवी-सी वोटर का है, जिस पर भाजपा का साथी और राष्ट्रवादी होने का आरोप सोशल मीडिया से लेकर अन्य मंचों तक लगता रहा है। उसके एग्जिट पोल में हैरतअंगेज ढंग से भाजपा को महज 155 से 167 सीटें मिलती दिख रही हैं, तो सपा-कांग्रेस को 135 से 147 सीटें मिलती नजर आ रही हैं। वहीं बसपा 81 से 93 सीटों पर सिमटती दिख रही है। भाजपा को सबसे जबर्दस्त जीत न्यूज 24-चाणक्य के एग्जिट पोल में दिख रही है। इसके मुताबिक भारतीय जनता पार्टी को 285 सीटें, सपा-कांग्रेस को 88 और बहुजन समाज पार्टी को 27 सीटें ही मिलती दिख रही हैं। इसी तरह उत्तराखंड में भी बीजेपी की जीत के तकरीबन सभी एग्जिट पोल ने अनुमान लगाए हैं। इंडिया न्यूज-एमआरसी ने यहां भाजपा को 38, इंडिया टीवी-सी वोटर ने 29 से 35, न्यूज 24-चाणक्य ने 53, इंडिया टुडे-एक्सिस ने 46 से 53, एबीपी न्यूज- सीएसडीएस ने 34 से 42 सीटें दी हैं। जबकि इन्हीं संस्थानों के एग्जिट पोल ने कांग्रेस को क्रमश: 30, 29 से 35, 15, 12 से 21 व 23 से 29 सीटें दी हैं। तकरीबन सभी एग्जिट पोल ने गोवा में भी बीजेपी को जीत की तरफ बढ़ते दिखाया है। इसी तरह सभी एग्जिट पोल ने मणिपुर में भी बीजेपी को जीतते हुए बताया है। मगर पंजाब में दस साल से सत्ताधारी अकाली-भाजपा गठबंधन को सबने हारते हुए दिखाया है। इंडिया न्यूज-एमआरसी के एग्जिट पोल का अनुमान है कि पंजाब में कांग्रेस और आम आदमी पार्टी को 55-55 सीटें मिलेंगी, वहीं अकाली-भाजपा गठजोड़ को महज सात सीटों से ही संतोष करना पड़ेगा। हालांकि, इंडिया टीवी-सी वोटर के एग्जिट पोल के अनुमान के मुताबिक राज्य में आप पार्टी की सरकार बनती नजर आ रही है। उसने कांग्रेस को 41 से 49, आप को 59 से 67 और अकाली-भाजपा को पांच से 13 सीटें दी हैं। लेकिन इंडिया टुडे-एक्सिस के एग्जिट पोल में कांग्रेस को 62 से 71, आप को 42 से 51 और सत्तारूढ़ अकाली-भाजपा गठजोड़ को चार से सात सीटें ही मिलती दिख रही हैं। न्यूज 24-चाणक्य का अनुमान कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के लिए बराबर-बराबर का है। उसने दोनों  को 54-54 सीटें मिलती बताई हैं, वहीं अकाली -भारतीय जनता पार्टी गठजोड़ का सिर्फ नौ सीटों पर जीतने का अनुमान जताया है। अगर एग्जिट पोल के ये नतीजे सही हुए तो दो बातें होंगी। एग्जिट पोल का धंधा और चमकेगा। तब यह भी माना जाएगा कि अब तक पत्रकारों व सर्वेक्षकों के सामने पोलिटिकली करेक्ट जवाब देने का आम भारतीय जन का रवैया बदल रहा है। वह सबके सामने वही राय रख रहा है, जिसे उसने मतदान केंद्र पर जाहिर किया है। दूसरी बात यह कि यह माना जाएगा कि मोदी ब्रांड का डंका अभी कमजोर नहीं पड़ा है। उसकी साख बची हुई है। नोटबंदी को लेकर भारतीय मीडिया और विपक्षी दलों ने भले ही लाख हाय तौबा मचाई हो, मगर अधिकांश लोगों ने इस फैसले को सही कदम के तौर पर लिया है। अगर पंजाब में कांग्रेस की सरकार बनती है तो पार्टी अपने घावों पर मरहम लगा सकती है। पंजाब में एक और असर होगा। हार के बाद भारतीय जनता पार्टी महाराष्ट्र की तरह अपने पुराने सहयोगी अकाली दल की कम से कम राज्य की राजनीति में छोटे भाई की भूमिका में रहने से इंकार कर देगी। यानी, आने वाले दिनों में दोनों दलों में खींचतान बढ़ने के आसार बढ़ेंगे। हार के बाद अकाली दल को चुप भी रहना होगा। वैसे यह हार अकाली दल की ही ज्यादा मानी जाएगी, भारतीय जनता पार्टी की कम। लेकिन अगर एग्जिट पोल नाकाम हुए तो यह तय मानिए कि अगली बार से उनकी तरफ नजर उठाने वालों की संख्या घट जाएगी।
 उमेश चतुर्वेदी (टेलीविजन पत्रकार और स्तंभकार)
Contact us: contact@rajexpress.com
Copyright © 2016 RajExpress.com. All Rights Reserved.
Designed by : 4C Plus