• 14 साल की लड़की को बंधक बना 1000 लोगों से बनवाया शारीरिक संबंध
  • प्रशांत भूषण को पीटने वाले को बीजेपी ने बनाया प्रवक्ता
  • राजस्थान: लैंडिंग से पहले बाड़मेर में क्रैश हुआ सुखोई, दोनों पायलट सुरक्षित
  • 'लालू परिवार' हुआ रघुवंश से नाराज, राबड़ी ने बयान को बोला फूहड़
  • गिलगित-बाल्टिस्तान क्षेत्र को पांचवां प्रांत घोषित करने की तैयारी में पाकिस्तान
  • सिद्धू को मिल सकता है कांग्रेस से झटका, अमरिंदर नहीं चाहते कोई डिप्टी CM
  • लोकसभा में भाजपा सांसदों ने किया पीएम मोदी का स्वागत, लगे 'जयश्री राम' के नारे
  • पंजाब और गोवा विधानसभा चुनावों में मिली हार के बाद आम आदमी पार्टी में फूट के आसार!

होम |

स्वास्थ्य

काम का बढ़ता बोझ बढ़ाता है वजन

By Raj Express | Publish Date: 2/28/2017 11:35:47 AM
काम का बढ़ता बोझ बढ़ाता है वजन
अगर आप कामकाजी हैं और अचानक आपका वजन बढ़ने लगा है तो हो सकता है कि आपकी नौकरी ही इसकी वजह हो। दरअसल अगर किसी की नौकरी अचानक बहुत बोझिल हो जाए और ज्यादा समय की मांग करने लगे तो इसका सीधा असर व्यक्ति के खानपान पर पड़ता है। रिपोर्ट के मुताबिक शोधकर्ताओं का दावा है कि अगर किसी पर अचानक काम का बोझ बढ़ जाये जो इससे उसका वजन बढ़ने लगता है। शोधकर्ताओं के अनुसार काम के बढ़ते बोझ के कारण व्यक्ति अपने खान-पान पर ध्यान नहीं देता और बढते दबाव को भुलाने के लिए अधिक मात्र में और कम पौष्टिक चीजें खाने लगता है। दिलचस्प बात लेकिन यह है कि अगर किसी व्यक्ति के पास शुरू से ही काम की अधिकता हो तो उस पर इसका कोई असर नही पड़ता है। अगर किसी व्यक्ति की नौकरी पहले उतनी तनाव वाली न हो और अचानक उस पर काम का बोझ बढ़ने लगे तो उसके मोटे होने का खतरा कई गुणा बढ़ जाता है। उनमें मोटापे का खतरा 20 प्रतिशत अधिक होता है। दूसरी तरफ जो व्यक्ति शुरू से ही तनावपूर्ण काम को चुनते हैं, जब उन्हें अधिक काम सौंपा जाता है तो, वे इसमें बेहतरी के अवसर तलाशते हुए इसे चुनौती के रूप में लेते हैं और उन्हें अपना मूड ठीक करने और ऊर्जा के स्तर को बढ़ाने के लिए खाने का सहारा नहीं लेना पड़ता है।अधिक घंटे तक काम का करने का मतलब है कि व्यक्ति को खाने का समय भी नहीं मिल पा रहा है और न ही वह ज्यादा टहल पा रहा है। काम के बोझ से जूझने के लिए ऊर्जा का स्तर बढ़ाने की जरूरत महसूस होने पर वह जंक फूड और मीठे खाद्य पदाथोर्ं की ओर भागता है। यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन के छात्रों ने 60 हजार से अधिक लोगों पर किये गये आठ शोधों को मिलाकर यह निष्कर्ष निकाला है।
 
Contact us: contact@rajexpress.com
Copyright © 2016 RajExpress.com. All Rights Reserved.
Designed by : 4C Plus