• 14 साल की लड़की को बंधक बना 1000 लोगों से बनवाया शारीरिक संबंध
  • प्रशांत भूषण को पीटने वाले को बीजेपी ने बनाया प्रवक्ता
  • राजस्थान: लैंडिंग से पहले बाड़मेर में क्रैश हुआ सुखोई, दोनों पायलट सुरक्षित
  • 'लालू परिवार' हुआ रघुवंश से नाराज, राबड़ी ने बयान को बोला फूहड़
  • गिलगित-बाल्टिस्तान क्षेत्र को पांचवां प्रांत घोषित करने की तैयारी में पाकिस्तान
  • सिद्धू को मिल सकता है कांग्रेस से झटका, अमरिंदर नहीं चाहते कोई डिप्टी CM
  • लोकसभा में भाजपा सांसदों ने किया पीएम मोदी का स्वागत, लगे 'जयश्री राम' के नारे
  • पंजाब और गोवा विधानसभा चुनावों में मिली हार के बाद आम आदमी पार्टी में फूट के आसार!

होम |

स्वास्थ्य

एंटीपर्सपिरेंट और डियोड्रेंट इस्तेमाल के स्मार्ट तरीके

By Raj Express | Publish Date: 3/6/2017 12:54:33 PM
एंटीपर्सपिरेंट और डियोड्रेंट इस्तेमाल के स्मार्ट तरीके

गर्मियों की उमस और तपन भरे दिनों में पसीने से बचना मुश्किल होता है। हालांकि पसीना आना पूरी तरह प्राकृतिक हैं, लेकिन कभी-कभी काफी आपकी भीगी बगल पर पड़े दाग शर्मिदगी का कारण बनते हैं। इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए पुरुष तरह-तरह के उपाय अपनाते हैं। कुछ बार-बार नहाते हैं, तो कुछ अपनी डाइट में बदलाव करते हैं, जबकि कुछ लोग डियोड्रेंट अथवा एंटी-पर्सपिरेंट का इस्तेमाल करते हैं। डियोड्रेंट से केवल बदबू रुकती है (ये बदबू आपके पसीनों से नहीं बल्कि उससे पनपे वाले बैक्टीरिया से आती है)। एंटीपर्सपिरेंट नमी से मुकाबला करता है, लेकिन किसी भी कारगर एंटीपर्सपिरेंट में एल्यूमिनियम सॉल्ट होता है। और इस केमिकल के कारण आपकी हल्के रंग की शर्ट पर गंदे और पीले रंग के दाग दिखाई देने लगते हैं।    

डियोड्रेंट या एंटी-पर्सपिरेंट में अलग-अलग संयोजन होता है, और इनका इस्तेमाल भी अलग-अलग होता है? एंटीपर्सपिरेंट ऐसे डियोड्रेंट होते हैं, जो पसीने को रोकने के लिए पसीने की ग्रंथियों पर काम करते हुए अंडरआर्म की दुर्गंध को रोकते हैं क्योंकि इनमें खुशबू होती है और त्वचा पर दरुगध पैदा करने वाले बैक्टीरिया को पनपने से रोकने वाले एंटीबैक्टीरियल तत्व होते हैं। इसलिए किसी भी प्रकार की खुशबू का इस्तेमाल करने से पहले यह बात जान लें कि आपको एंटीपर्सपिरेंट की जरूरत है अथवा डिओडरेंट की, क्योंकि यह बात आपके शरीर की जरूरत पर निर्भर करती है। अगर आपको अत्यधिक मात्र में पसीना नहीं आता है लेकिन आप पसीने की दुगर्ंध से परेशान है तो आपके लिए डिओडरेंट का चुनाव सही हो सकता है। दूसरी ओर अगर आपको अधिक पसीने के साथ दरुगध की समस्या भी है तो आपके लिए एंटीपर्सपिरेंट ही सही चुनाव है। आइए इस आर्टिकल के माध्यम से पुरुषों के लिए एंटीपर्सपिरेंट और डियोड्रेंट इस्तेमाल करने के दो स्मार्ट तरीकों के बारे में जानें।

सोने से पहले डियोड्रेंट का इस्तेमाल करें

कुछ पुरुषों सोचते हैं कि एंटीपर्सपिरेंट सुबह इस्तेमाल करने के कारण देर तक काम नहीं करता, सुबह आपको रात से ज्यादा पसीना आता है इसी वजह से सुबह काम करने से पहले ही एंटीपर्सपिरेंट पूरी तरह से साफ हो जाता है। लेकिन जब हम इसे पहले इस्तेमाल किया जाता है तो इसमें मौजूद एक्टिव तत्व और एल्यूमिनियम क्लोराइड को काम करने का करने का काफी समय मिलता है और ये आपकी त्वचा के अंदर जाकर आपकी पसीनें की नलिकाओं पर सीधा असर करता है। जब आप समय पर उठते हैं तो त्वचा इसे पूरी तरह से सोख लेती है और बचा हुआ नहाते समय साफ हो जाता है जिससे आपकी शर्ट साफ और बगल सूखी रहती है। क्योंकि आप इसे डियोड्रेंट की तरह इस्तेमाल नहीं करते, इसलिए आप इसकी वैराइटी को देख सकते हैं।

सुबह के समय स्टैंडर्ड डियोड्रेंट का इस्तेमाल करें

क्योंकि आपके अंडरआर्म अपेक्षाकृत ड्राई रहते हैं तो आपको स्ट्रांग डियोड्रेंट की जरूरत नहीं होती, लेकिन फिर भी हम कहेंगे कि आपको घर से निकलने से पहले कुछ ना कुछ जरूर लगाना चाहिए, इससे आपकी बगल काफी फ्रेश और साफ रहेगी। साथ ही आपको अपने डियोड्रेंट का ब्रांड समय-समय पर बदलना चाहिए। शैम्पू की तरह डियोड्रेंट बदलने से आपका शरीर कई प्रकार के केमिकल का आदि हो जाता है, इस तरह समय साथ ये कम प्रभावी हो जाते हैं। अपनी स्टैण्डर्ड चॉइस को नए नुस्खों के साथ बदलते रहिए। फिर कुछ महीने बाद अपने पुराने डियोड्रेंट का इस्तेमाल करना शुरू करें, इससे ये पुराना डीयो और बेहतर काम करेगा। 

 
Contact us: contact@rajexpress.com
Copyright © 2016 RajExpress.com. All Rights Reserved.
Designed by : 4C Plus