• 14 साल की लड़की को बंधक बना 1000 लोगों से बनवाया शारीरिक संबंध
  • प्रशांत भूषण को पीटने वाले को बीजेपी ने बनाया प्रवक्ता
  • राजस्थान: लैंडिंग से पहले बाड़मेर में क्रैश हुआ सुखोई, दोनों पायलट सुरक्षित
  • 'लालू परिवार' हुआ रघुवंश से नाराज, राबड़ी ने बयान को बोला फूहड़
  • गिलगित-बाल्टिस्तान क्षेत्र को पांचवां प्रांत घोषित करने की तैयारी में पाकिस्तान
  • सिद्धू को मिल सकता है कांग्रेस से झटका, अमरिंदर नहीं चाहते कोई डिप्टी CM
  • लोकसभा में भाजपा सांसदों ने किया पीएम मोदी का स्वागत, लगे 'जयश्री राम' के नारे
  • पंजाब और गोवा विधानसभा चुनावों में मिली हार के बाद आम आदमी पार्टी में फूट के आसार!

होम |

स्वास्थ्य

स्वाद नहीं सेहत भी बनाते हैं मसाले

By Raj Express | Publish Date: 3/17/2017 4:12:20 PM
स्वाद नहीं सेहत भी बनाते हैं मसाले
भारत को मसालों का देश कहा जाता है। खाने में बहुतायत से प्रयोग होने वाले मसाले जैसे काली मिर्च, धनिया, लौंग, दालचीनी, गरम मसाला महज हमारे खाने को सुगंधित और लजीज ही नहीं बनाते बल्कि सेहत को भी दुरुस्त रखते हैं। आज हम आपको मसालों के फायदे के बारे में बता रहे हैं।
क्यों बेहतर हैं मसाले
प्राकृतिक रूप से तैयार मसाले केवल खाने को स्वादिष्ट ही नहीं बल्कि स्वास्थ्य को भी बेहतर बनाते हैं। लाल मिर्च को छोड़ दें तो मसालों में एंटी-आक्सीडेंट्स और कैंसररोधी तत्व प्रचुर मात्र में पाए जाते हैं।
मसालों के बड़े गुणकारी
इलायची: भारत समेत दुनिया भर में खाने में इलायची का इस्तेमाल होता है। इलायची में पाया जाने वाला तेल पाचन को बेहतर रखने में मददगार होता है।
दालचीनी: खाने के अलावा दालचीनी का टूथपेस्ट, माउथवाश और च्वुइंगम में भी प्रयोग होता है। दालचीनी में पाए जाने वाले यूजेनाल और सिनेमेल्डीहाइड दर्दनिवारक की तरह काम करते हैं। दालचीनी खून का बहाव और थक्का जमने की प्रक्रिया ठीक रखती है और जलन को दूर करती है। इसके अलावा दालचीनी डायबिटीज के इलाज में भी कारगर है।
लौंग: आमतौर पर खाने को सुगंधित बनाने के लिए लौंग का इस्तेमाल होता है। दांत का दर्द दूर करने में लौंग के तेल को शर्तिया इलाज माना जाता है। इसके अलावा लौंग में पाया जाने वाला यूजेनाल जलन व आर्थराइटिस (जोड़ों की बीमारी) के दर्द से निजात दिलाता है।
जीरा: दाल बघारने या चावल फ्राई करने में इस्तेमाल होने वाला जीरा पाचन ठीक रखने के साथ सूजन दूर करने में मददगार साबित होता है। खून साफ रखने में भी जीरा अहम भूमिका निभाता है।
जानिए और कई फायदे
नसफल (स्टार एनाइस) यरूमेटिज्म (जोड़ों व टिश्यू की परेशानी) को दूर करने में कारगर है।
तेज पत्ते में एंटी-फंगल और एंटी-बैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं।
एंटी-आक्सीडेंट्स की तरह प्रयुक्त होने वाला लहसुन हृदयरोगियों खासकर कोरोनरी आर्टरी (धमनी) के मरीजों के लिए काफी फायदेमंद है।
सर्दी-जुकाम और बुखार को दूर करने में तुलसी का कोई जवाब नहीं।
एंटीसेप्टिक की तरह प्रयुक्त होने वाली हल्दी अल्जाइमर्स (भूलने की बीमारी) रोकने में भी मददगार होती है।
काली मिर्च पाचन और भूख बढ़ाती है। वहीं राई (सरसों) में मौजूद ओमेगा-3 फैटी एसिड्स, लोहा, जिंक, मैंगनीज, कैल्शियम और प्रोटीन शरीर के लिए काफी जरूरी हैं।
 
Contact us: contact@rajexpress.com
Copyright © 2016 RajExpress.com. All Rights Reserved.
Designed by : 4C Plus