राजधानी में जारी है चोरों की धमाचौकड़ी....*जीडीए की महादजी नगर योजना में मिलेंगे गरीबों को...*निशा के नृत्य से दर्शक हुए मुग्ध.....*भोज यूनिवर्सिटी के गार्ड को वाहन ने कुचला.....*डबरा स्टेशन पर यात्री सुविधाएं व गाड़ी रोकने की...*बजट बुकिंग के लिए 30 तक का मौका....*छात्र-छात्रओं की सुरक्षा के लिए बस संचालकों को ...*अधिकारियों ने ग्रामीणों को पांच दिन में शौचालय....*मंत्री ने बच्चों के बीच मनाया आनंद....*पदोन्नतियों से प्रतिबंध हटेगा, मंत्रालय...*
प्रणव ने किया बंगाल ग्लोबल बिजनेस समिट का उद्घाटन
सोशल मीडिया के सुल्तान बने मोदी
प्रियंका ने दूसरी बार जीता''पीपुल्स चॉइस अवार्ड''
महिला क्रिकेट की पूर्व कप्तान हेहो फिंलट का निधन
मुख्यपृष्ठ राष्ट्रीय विश्व शहर  व्यापार खेल मनोरंजन शिक्षा सम्पादकीय क्लासिफाइड Appointment पत्रिकाएँ आज का पंचांग
थल सेना के अमले में भारी कटौती की सिफारिश
On 1/9/2017 4:57:26 PM

Change font size:A | A

Print

E-mail

Comments

Rating

Bookmark

नई दिल्ली। सेना में कटौती के चीन के निर्णय का अनुसरण करते हुए रक्षा मंत्रलय की एक समिति ने थल सेना के अमले में भारी कटौती की सिफारिश की है जिसमें बेवजह के खचरें को कम कर कुछ सैन्य संस्थाओं को बंद करने तथा कुछ अन्य का आकार छोटा करने की बात कही गई है जिससे सेना को चुस्त-दुरूस्त और कुशल बनाया जा सके।
रक्षा मंत्रलय ने लेफ्टीनेंट जनरल डी बी शेकतकर की अध्यक्षता में गठित समिति को सशस्त्र सेनाओं के विभिन्न अंगों के काम काज की विस्तार से समीक्षा की जिम्मेदारी दी गयी थी। समिति को सेना की युद्ध क्षमता तथा कौशल बढ़ाने के उपाय सुझाने को भी कहा गया था। सूत्रों के अनुसार समिति ने पिछले महीने के अंत में रक्षा मंत्रलय को अपनी रिपोर्ट सौंपी थी।
यदि समिति की सभी सिफारिशों को पूरी तरह लागू किया जाता है तो इससे अगले 5 सालों में 25 से 30 हजार करोड़ रुपये की बचत होगी। उल्लेखनीय है कि चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने सेना में बिना जरूरत की संस्थाओं को बंद कर भारी भरकम कटौती की घोषणा की थी। समिति ने साथ ही यह भी सिफारिश की है कि कटौती के कारण होने वाली बचत का उपयोग सेना की क्षमता बढ़ाने में की जानी चाहिए।
समिति ने रक्षा मंत्रलय के तहत काम करने वाली गैर लड़ाकू संस्थाओं जैसे रक्षा संपदा, रक्षा लेखा विभाग, डीजी क्यू ए, आर्डिनेंस फैक्ट्री बोर्ड, रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन और राष्ट्रीय कैडेट कोर के कामकाज की समीक्षा की भी सिफारिश की है। तीनों सेनाओं में समन्वय के मुद्दे पर शेकतकर समिति ने मध्यम श्रेणी के अधिकारियों के प्रशिक्षण के लिए संयुक्त सेवा युद्ध कालेज की स्थापना की जरूरत बतायी है। अभी वायु सेना और नौसेना के अधिकारियों के प्रशिक्षण के लिए 3 अलग - अलग युद्ध कालेज हैं।
समिति ने यह भी कहा है कि पुणो स्थित सैन्य खुफिया स्कूल को तीनों सेनाओं के खुफिया प्रशिक्षण केन्द्र की जिम्मेदारी दी जानी चाहिए। इसके अलावा रक्षा मंत्रलय और सशस्त्र सेनाओं के बीच समन्वय के लिए एक नोडल केन्द्र बनाने पर भी जोर दिया है। इसके लिए चीफ आफ डिफेंस स्टाफ या परमानेंट चेयमैन चीफ आफ स्टाफ कमेटी को यह भूमिका निभाने के लिए कहा गया है।

Post Comments
More News
जल्लीकट्टू पर अध्यादेश का मस...
भारत ने दूसरे वनडे में इंग्ल...
भारत का चीन को NSG सदस्यता प...
दिल्ली में शीत लहर का प्रकोप...
मुस्लिम उलेमाओं के प्रतिनिधि...
‘हलवा सेरेमनी’ के साथ शुरू ह...
पहली बार राजपथ पर गरजेगा तेज...
सुप्रीम कोर्ट ने जल्लीकट्टू ...
आरबीआई गवर्नर उर्जित पटेल लो...
नौसेना की समुद्री ताकत का झर...
जल्लीकट्टू के लिए छात्रों का...
अमेरिकी हवाई हमले में 100 से...
पोप ने ट्रंप से गरीबों का कल...
नशामुक्ति पर मानव श्रृंखला क...
लोग भोजन की बर्बादी कम करें ...
डाक विभाग ने जारी किया जामिय...
प्रणव ने झालदा सत्यभामा विद्...
आसाराम के बेटे ने उम्मीदवारी...
दिल्ली:कोहरे के कारण ट्रेन ए...
उच्चतम न्यायालय का जल्लीकट्ट...
मोदी से मिले पनीरसेल्वम, जल्...
मोदी ने एटा सडक दुर्घटना में...
पारंपरिक जल्लीकट्टु को मेरा ...
बाबा रामदेव ने ओलंपिक पहलवान...
एटा: स्कूल बस पलटने से 24 बच...
जल्लीकट्टू आंदोलन: मोदी से आ...
वैश्विक अर्थव्यवस्था में मंद...
सपा-कांग्रेस गठबंधन की उम्मी...
नमामि गंगे, से जुड़ा नेहरू य...
जम्मू कश्मीर सरकार कहेगी तो ...
पूर्व गृह मंत्री शिंदे समेत ...
अदालत ने आर्म्स एक्ट मामले म...
 सम्पर्क करें  विज्ञापन दरें आपके सुझाव संस्थान
© Copyright of Rajexpess 2009,all right reserved.
Developed & Designed By: