मार्च तक राशन दुकानों में कैशलेस सुविधा*टाइगर जिंदा रहेंगे, तो हम जिंदा रहेंगे : राजे.....*पांच राज्यों में 80 करोड़ रुपये से अधिक जब्त*झारखंड गठन के लिये 200 करोड़ रपये की मंजूरी*आग लगने से एक मंजिल गिरी ,38 झुलसे*भाजपा, आप के कई नेता कांग्रेस में शामिल....*भारत ने बनाया नया विश्व रिकार्ड...*क्रूरतापूर्वक मवेशियों को ले जा रहे 2युवक गिरफ्तार*अब 30 हजार रुपए के कैश ट्रांजैक्‍शन पर पैन कार्ड*भारत नहीं आ पाने से दुखी हैं माहिरा!*
प्रियंका ने दूसरी बार जीता''पीपुल्स चॉइस अवार्ड''
महिला क्रिकेट की पूर्व कप्तान हेहो फिंलट का निधन
‘हॉल ऑफ फेम’ क्लब में शामिल हुए कपिल देव
शीना बोरा मर्डर इंद्राणी, पीटर मुखर्जी पर हत्या के आरोप तय
मुख्यपृष्ठ राष्ट्रीय विश्व शहर  व्यापार खेल मनोरंजन शिक्षा सम्पादकीय क्लासिफाइड Appointment पत्रिकाएँ आज का पंचांग
मुलायम खेमे के लोग, रोके जाने पर सड़क पर बैठ गये..
On 1/9/2017 5:08:43 PM

Change font size:A | A

Print

E-mail

Comments

Rating

Bookmark

लखनऊ। (उ.प्र.) में सत्तारुढ समाजवादी पार्टी (सपा) की अन्दरुनी लड़ाई अब सड़क तक पहुंच गयी है और पार्टी दफ्तर में जाने से रोके जाने पर मुलायम खेमे के लोग आज यहां सड़क पर ही डेरा जमाकर बैठ गये। इनमें से एक ने लाल टोपी उतारकर विरोध स्वरुप काली टोपी पहन ली। इन नेताओं के समर्थन में पार्टी कार्यालय गये सूबे के उच्च शिक्षामंत्री शारदा प्रताप शुक्ल भी गेट के बाहर रोक लिए गये।
दफ्तर में प्रवेश से सुरक्षाकर्मियों द्वारा रोके जाने पर श्री शुक्ल ने कहा यह दुर्भाग्यपूर्ण है। सपा के लिए काला दिन है। ऐसा तो कभी सोचा नहीं था। करीब 21 महीने जेल में रहे, उसके बाद लगा था कि अब समाजवादियों का दबदबा देश की राजनीति में बढ़ेगा, लेकिन इस तरह की लड़ाई से लगता है कि वामपंथियों की तरह समाजवादियों की ताकत भी घटेगी। देश में समाजवाद कमजोर होगा। उन्होंने कहा कि वह इस लडाई में नेताजी (मुलायम सिंह यादव) के साथ हैं, क्योंकि नेताजी के बगैर समाजवाद की कल्पना नहीं की जा सकती।
श्री शुक्ल ने कहा कि पार्टी के वरिष्ठ नेता रघुनन्दन सिंह काका को भी कार्यालय में जाने से रोका गया। कार्यालय में जाने से कैसे रोका जा सकता है। कार्यालय समाजवादियों का है। उसमें पार्टी के नेताओं के साथ आम जनता भी जा सकती है। वह सरकारी दफ्तर नहीं है। जनता का कार्यालय है। सुरक्षा मानकों की जांच कर दफ्तर में कोई भी आ-जा सकता है। उन्होंने कहा कि अन्दर जाने से रोकने के विरोध में वह भी कुछ देर वहीं सड़क पर कुर्सी लगाकर बैठे थे। उन्होंने कहा कि उन्हें बताया गया कि इस दौरान दफ्तर के अन्दर नरेश उत्तम बैठे थे। इस बीच, मुलायम खेमे में पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता दीपक मिश्र भी पहुंच गये। सुरक्षाकर्मियों ने उन्हे भी रोक दिया। वह भी सड़क पर कुर्सी डालकर बैठ गये। विरोध में सपा की लाल टोपी उतारकर उन्होंने काली टोपी पहन ली।
रघुनन्दन सिंह काका को शिवपाल यादव का खास माना जाता है। शिवपाल यादव ने उन्हें पार्टी का प्रदेश सचिव बनाया था। रघुनन्दन सिंह काका का कहना है कि उन्हें पार्टी कार्यालय में प्रवेश से रोकना अलोकतांत्रिक है। वह इसका लोकतांत्रिक तरीके से विरोध करते रहेंगे।
मुलायम सिंह यादव और मुख्यमंत्री बेटे अखिलेश यादव से विवाद का कारण पारिवारिक कलह बताया जा रहा है, लेकिन राजनीतिक विवाद 21 जून से बहुचर्चित विधायक मुख्तार अंसारी की पार्टी कौमी एकता दल (कौएद) के सपा में विलय से शुरु हुआ।
विलय का सख्ती से विरोध करते हुए मुख्यमंत्री ने इसके सूत्रधार रहे माध्यमिक शिक्षामंत्री बलराम यादव को मंत्रिमंडल से बर्खास्त कर दिया। आनन-फानन में 25 जून को संसदीय बोर्ड की बैठक बुलायी गयी।
संसदीय बोर्ड ने बलराम यादव का मंत्रिमंडल में बहाली और कौएद का पार्टी में विलय नकार दिया। दो महीने तक मामला ठीक चला। इसी बीच सितम्बर में मुलायम सिंह यादव ने अखिलेश यादव को हटाकर शिवपाल सिंह यादव को पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष बना दिया।
इसे अपनी तौहीन समझते हुए मुख्यमंत्री ने उनके सभी महत्वपूर्ण विभाग छीन लिए, लेकिन मुलायम के दबाव में लोक निर्माण विभाग के अलावा सभी विभाग वापस कर दिये, हालांकि इससे पहले शिवपाल सिंह यादव ने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया, जिसे मुख्यमंत्री ने नामंजूर कर दिया। इन घटनाक्रमों के बीच मुख्यमंत्री के समर्थक सड़क पर उतर आये। उनके समर्थकों ने एक दिन तो मुलायम सिंह यादव के घर का भी घेराव किया, हालांकि घेराव करने वाले युवाओं को पार्टी से बाहर निकाल दिया गया।
झगड़े का‘क्लाइमेक्स’अक्टूबर के अंतिम सप्ताह में देखा गया। मुख्यमंत्री ने 23 अक्टूबर को शिवपाल सिंह यादव और उनके तीन समर्थक मंत्रियों नारद राय, ओम प्रकाश सिंह और शादाब फातिमा को मंत्रिमंडल से बर्खास्त कर दिया। अखिलेश यादव विस चुनाव में टिकट बंटवारे में अपनी प्रभावी भूमिका चाहते थे, जो पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाये जाने के बाद एक तरह से समाप्त सी हो गयी थी।

Post Comments
More News
आखिरकार अखिलेश को हो गई आवंट...
एमजीआर को जयललिता की भतीजी न...
दिल्ली का तापमान 6 डिग्री से...
बालिकाओं के सम्मान से खिलवाड...
17वीं विधानसभा के लिए नामांक...
सांस्कृतिक, सामाजिक सौहार्द ...
निगाहें अब मुलायम के अगले कद...
मदरसों में मिड डे मिल योजना ...
गठबंधन का एलान दो दिन में : ...
कांग्रेस का स्पष्टिकरण, अखिल...
जागीर कौर को राहत नहीं, लड़ ...
नवोदय विद्यालय, शिक्षा का ब्...
अंतरराष्ट्रीय परिधान मेला 18...
मुलायम से अखिलेश और शिवपाल न...
ऊर्जा खर्च में रेलवे बचायेगी...
जयललिता की भतीजी ने राजनीति ...
मोदी का विरोध करना फैशन बन ग...
कठोर मुलायम हुए नरम:पुत्र को...
जवानों के खाने पर उठे सवाल!...
ट्रेन की चपेट में आने से तें...
जायरा वसीम के पक्ष में आए आम...
संवाददाताओं को अंतिम बार संब...
भारत के नज़दीक आने के लिये आ...
दिल्ली में ठंड और कोहरा कायम...
नारायण दत्त तिवारी भाजपा में...
अदालत ने आर्म्स एक्ट मामले म...
पूर्व गृह मंत्री शिंदे समेत ...
जम्मू कश्मीर सरकार कहेगी तो ...
नमामि गंगे, से जुड़ा नेहरू य...
सपा-कांग्रेस गठबंधन की उम्मी...
वैश्विक अर्थव्यवस्था में मंद...
जल्लीकट्टू आंदोलन: मोदी से आ...
एटा: स्कूल बस पलटने से 24 बच...
बाबा रामदेव ने ओलंपिक पहलवान...
पारंपरिक जल्लीकट्टु को मेरा ...
मोदी ने एटा सडक दुर्घटना में...
मोदी से मिले पनीरसेल्वम, जल्...
उच्चतम न्यायालय का जल्लीकट्ट...
दिल्ली:कोहरे के कारण ट्रेन ए...
आसाराम के बेटे ने उम्मीदवारी...
नर्मदा किनारे की 58 मदिरा दु...
अब एटीएम से मिलेंगे दस हजार...
अब अफसरों के घर तैनात सहायको...
मकान में छिपे हिज्बुल के आतं...
मुलायम को चुनाव आयोग का तगड़...
क्या हम यहां चला रहे हैं पंच...
गोवा: भाजपा ने की उम्मीदवारो...
आधी आबादी से ज्यादा दौलत आठ ...
‘मोदी मास्क’पहनकर आयेंगे राम...
 सम्पर्क करें  विज्ञापन दरें आपके सुझाव संस्थान
© Copyright of Rajexpess 2009,all right reserved.
Developed & Designed By: