देवरिया में महिला का शव बरामद होने से हडकंप*उम्मीदवारी के लिए नारायण साई ने मांगी जमानत*मार्च तक राशन दुकानों में कैशलेस सुविधा*टाइगर जिंदा रहेंगे, तो हम जिंदा रहेंगे : राजे.....*पांच राज्यों में 80 करोड़ रुपये से अधिक जब्त*झारखंड गठन के लिये 200 करोड़ रपये की मंजूरी*आग लगने से एक मंजिल गिरी ,38 झुलसे*भाजपा, आप के कई नेता कांग्रेस में शामिल....*भारत ने बनाया नया विश्व रिकार्ड...*क्रूरतापूर्वक मवेशियों को ले जा रहे 2युवक गिरफ्तार*
प्रियंका ने दूसरी बार जीता''पीपुल्स चॉइस अवार्ड''
महिला क्रिकेट की पूर्व कप्तान हेहो फिंलट का निधन
‘हॉल ऑफ फेम’ क्लब में शामिल हुए कपिल देव
शीना बोरा मर्डर इंद्राणी, पीटर मुखर्जी पर हत्या के आरोप तय
मुख्यपृष्ठ राष्ट्रीय विश्व शहर  व्यापार खेल मनोरंजन शिक्षा सम्पादकीय क्लासिफाइड Appointment पत्रिकाएँ आज का पंचांग
मेला संचालकों के के बिन में जड़े हैं ताले
On 1/12/2017 11:13:22 AM

Change font size:A | A

Print

E-mail

Comments

Rating

Bookmark

ग्वालियर। मेला प्राधिकरण द्वारा मेला शुरू होने से पहले किए गए बड़े बड़े दावे खोखले साबित हुए हैं। मेला शुरू होने से पूर्व संचालन के लिए समितियों का गठन किया गया था। समिति सदस्यों ने मेला का रुख तक नहीं किया, जिससे मेला संचालकों के केबिन के ताले तक नहीं खुले हैं। गौरतलब है कि मेला में संचालक मंडल का गठन नहीं होने से मेला की व्यवस्थाएं प्रभावित हो रही हैं। मेला में संचालकों के लिए पक्के केबिन बने हुए हैं,जहां बैठकर वे मेला की गतिविधियों का संचालन करते थे तथा दुकादारों एवं सैलानियों की समस्याएं सुलझाते थे,लेकिन नए संचालक मंडल का गठन नहीं होने से संचालकों के केबिन में ताले जड़े हुए हैं।
केबिन पर लगे हैं ताले
मेला शुरू होने से पूर्व मेला संचालन के लिए प्रशासन की कमेटियां गठित की गई थीं, लेकिन अपनी विभागियों जिम्मेदारियों की वजह से वे मेला को बिल्कुल भी समय नहीं दे पा रहे हैं। दंगल समिति को अगर छोड़ दिया जाए,तो एक भी मेला आरंभ होने से लेकर अब-तक किसी भी समिति के केबिन का ताला तक नहीं खुला है।
दुकानदार हो रहे हैं परेशान
बाजार समिति का सीधा सरोकार सीधे मेला दुकानदारों से होता है, लेकिन समिति के केबिन में ताला जड़ा होने से दुकानदारों के समक्ष यह समस्या पैदा हो गई है कि वे अपनी समस्या लेकर कहां जाएं। बाजार समिति के प्रभारी पहले हर रोज मेला का भ्रमण कर दुकानदारों की समस्याओं का निराकरण करते थे, लेकिन अब ऐसा नहीं हो पा रहा है।

Post Comments
More News
5 करोड़ की राशि से होंगे विक...
हर बीमारी की चिंता भाजपा सरक...
कन्या भ्रूण हत्या रोकने के ल...
बुधना नदी के किनारे एक शव बर...
72 घंटे बाद भी नहीं लगा लुटे...
चुनावी रंजिश को लेकर युवक पर...
छिन जाएगा प्रदेशस्तरीय कार्य...
सीएम के फोन से टली कांग्रेस ...
चार हजार आवासहीनों को 3 फरवर...
सूर्य नारायण के उत्तरायण होत...
गणतंत्र दिवस तक पूरे जिले को...
पीसीआई की टीम ने दूसरे दिन भ...
पीएफ टीम ने दो अस्पतालों पर ...
जेएएच: बीपीएल कार्ड है, लेकि...
बांसौडी टीम ने आसानी से जीता...
कांग्रेस ने पेट्रोल-डीजल के ...
तीन बार फैल हुआ ऑपरेशन चौथी ...
गंदगी पर जुर्माना, सफाई पर क...
क्षेत्र का विकास और प्रगति ह...
भिंड: नसबंदी के बाद महिला की...
पेट की खातिर दाव पर लगाते है...
सुप्रीम कोर्ट ने थर्ड जेंडर ...
आप बिल्डर से टैक्स क्यों नही...
निर्माणाधीन बालकृष्ण आर्केड ...
साडा बनाएगा एनएच-3 पर सबसे ल...
अब हड़ताल की तो कटेगा कर्मचा...
भिंड: कलेक्टर को सेप्टिक टैं...
सर्द हवाओं ने दिन का पारा 5....
अंचल के लोकतंत्र सेनानी 21 म...
स्कूल वैन ठेले से टकराई नशे ...
आनंद उत्सव मेले में विद्यार्...
पंखों में धूल और जाले लगे है...
कृष्णभक्ति पर केंद्रित था हव...
मेमोविन साइंस कार्निवाल को ल...
कुपोषण से मौत हुई तो कलेक्टर...
साढ़े तीन साल की मासूम बेटी ...
ग्रामीण को पहुंचाया हवालात...
19 वर्ष तक के बच्चों को दवा ...
डेयरी संचालक को बंदूक की नोक...
दो दिन बढ़ सकती है शिल्पबाजा...
स्वच्छता अभियान से जुडे, 196...
जल्द शुरू होगा अटलबिहारी वाज...
पहला नेट मीटरिंग सिस्टम शासक...
रात का तापमान फिर 4.7 डिसे प...
पठान होंगे शहर कांग्रेस के क...
पूर्व केंद्रीय मंत्री सिंधिय...
सात साल में लागत 47 से बढ़कर...
छह घंटे में हटाए आठ अतिक्रमण...
 सम्पर्क करें  विज्ञापन दरें आपके सुझाव संस्थान
© Copyright of Rajexpess 2009,all right reserved.
Developed & Designed By: